ब्रह्मा, शिव और विष्णु में सबसे श्रेष्ठ कौन.? महर्षि भृगु ने ली थी तीनों देवोंं की परीक्षा!

त्रिदेव (ब्रह्मा, शिव और विष्णु) में सर्वश्रेष्ठ कौन.? इस तरह ब्रह्माजी के मानस पुत्र महर्षि भृगु ने ली थी तीनों देवोंं की परीक्षा ... और क्यों महर्षि भृगु ने मारी थी भगवान विष्णु की छाती पर लात?


हिन्दू धर्म-शास्त्रों में कई खूबसूरत प्रसंग का उल्लेख किया गया है। आज हम आपको उन्हीं प्रंसगों में से एक के बारे में बताने जा रहे हैं, जब महर्षि भृगु ने तीनों देवोंं की परीक्षा ली थी। महर्षि भृगु ब्रह्माजी के मानस पुत्र और सप्तर्षि मंडल के एक ऋषि हैं।

त्रिदेव में सर्वश्रेष्ठ कौन? महर्षि भृगु ने कैसे ली त्रिदेवों की परीक्षा

एक बार महर्षि भृगु और अन्य मुनियों ने सरस्वती नदी के तट पर मिलकर यज्ञ का आयोजन किया। इस यज्ञ में नारद जी भी आए हुए थे। नारद जी ने सभी ऋषियों से पूछा कि आप लोग इस यज्ञ का फल किस देव को देना चाहते हैं।

तब, इस पर ऋषियों का जवाब था, कि वह इस यज्ञ का फल तीनों देवों में सबसे श्रेष्ठ देव को ही देंगें। लेकिन, एक बहुत बड़ी समस्या यह थी कि ब्रम्हा, विष्णु और महेश में सबसे श्रेष्ठ कौन हैं? इसका निर्धारण कैसे किया जाए। इसका कोई निष्कर्ष न निकलता देख ऋषि – मुनियों ने त्रिदेवों की परीक्षा लेने का निश्चय किया और ब्रह्माजी के मानस पुत्र महर्षि भृगु को इस कार्य के लिए नियुक्त किया।

Why did Maharishi Bhrigu Kick on the Chest of Lord Vishnu

Maharishi Bhrigu and Lord Vishnu story

सबसे श्रेष्ठ देव की पहचान करने के लिए महर्षि भृगु सर्वप्रथम ब्रह्माजी के पास गए।

उन्होंने ब्रह्माजी को न तो प्रणाम किया और न ही उनकी स्तुति की। यह देख ब्रह्माजी क्रोधित हो गए। क्रोध की अधिकता से उनका मुख लाल हो गया। आंखों में अंगारे दहकने लगे, लेकिन फिर यह सोचकर कि ये उनके पुत्र हैं, उन्होंने हृदय में उठे क्रोध के आवेग को विवेक-बुद्धि से शांत कर लिया।

फ़िर, वहां से महर्षि भृगु कैलाश पर्वत गए। देवाधिदेव भगवान महादेव ने देखा कि भृगु आ रहे हैं, तो वे प्रसन्न होकर अपने आसन से उठे और उनका आलिंगन करने के लिए अपनी भुजाएं फैला दीं। किंतु, उनकी परीक्षा लेने के लिए भृगु मुनि उनका आलिंगन अस्वीकार करते हुए बोले -‘महादेव! आप सदा वेदों और धर्म की मर्यादा का उल्लंघन करते हैं। दुष्टों और पापियों को आप जो वरदान देते हैं, उनसे सृष्टि पर भयंकर संकट आ जाता है।

इसलिए मैं आपका आलिंगन कदापि स्वीकार नहीं करूंगा।” उनकी बात सुनकर भगवान शिव क्रोध से तिलमिला उठे। उन्होंने जैसे ही त्रिशूल उठा कर उन्हें मारना चाहा, वैसे ही भगवती ने बहुत अनुनय – विनय कर किसी प्रकार से उनका क्रोध शांत किया।

फ़िर, इसके बाद भृगु मुनि बिष्णु के लोक, वैकुण्ठ लोक गए। उस समय भगवान श्रीहरि देवी लक्ष्मी के साथ क्षीरसागर में विश्राम कर रहे थे।

भृगु ने जाते ही भगवान बिष्णु के छाती पर लात मारी। भक्त – वत्सल भगवान विष्णु शीघ्र ही अपने आसन से उठ खड़े हुए और उन्हें प्रणाम करके उनके चरण सहलाते हुए बोले – ‘भगवन्! आपके पांव में कहीं चोट तो नहीं लगी? कृपया इस आसन पर विश्राम कीजिए। भगवन! मुझे आपके शुभ आगमन का ज्ञान न था। इसलिए मैं आपका स्वागत नहीं कर सका। आपके चरणों का स्पर्श तीर्थों को पवित्र करने वाला है।

आपके चरणों के स्पर्श से आज मैं धन्य हो गया।” भगवान विष्णु का यह प्रेम-व्यवहार देखकर महर्षि भृगु की आंखों से अश्रु बहने लगे। उसके बाद वे ऋषि-मुनियों के पास लौट आए और ब्रह्माजी, शिवजी और श्रीहरि के यहां के सभी अनुभव विस्तार से कह बताए।

उनके अनुभव सुनकर सभी ऋषि- मुनि बड़े हैरान हुए और उनके सभी संदेह दूर हो गए। तभी से वे भगवान विष्णु को सर्वश्रेष्ठ मानकर उनकी पूजा-अर्चना करने लगे।

हिंदू धर्म-ग्रंथों से जुडी अन्य पौराणिक कथाएं:


अगर आप भी अपनी हिंदी रचनाएँ, हिंदी कहानियाँ (Hindi Stories), प्रेरक-लेख (Motivational articles) लाखों लोगों तक पहुँचाना चाहते हैं, तो हमसे info[at]unmukthindi[dot]in पर संपर्क करें !!


आप अपनी टिपण्णी/ राय/ जवाब दें

Please enter your comment!
कृपया अपना शुभनाम दर्ज़ करें!